कुछ संभल सको तो

कुछ संभल सको तो सम्भलो रे |
दिन बीतेंगे जो बीत चुके कुछ कहना है तो कहलो रे |
तेरी नगरी में कोई आएगा |
तेरे मन के एकाकीपन में
पदचाप हमारी आएगी अब
बिन न्योते ही हम आ पहुंचे ,कुछ जगह तो करलो रे |
दिन बीतेंगे जो बीत चुके ...................................||

सुधि लेना हो परिजन की तो
ले लो ! बेला बीत रही है
अंगारे तो बरसेंगे पर आँखों से कहो थोडा बहलो रे |
दिन बीतेंगे जो बीत चुके ...................................||

मीत तुम्हारे थे लाखों पर
प्रीत नहीं निभ पायेगी
अब झोली हमारी भरने को कुछ फूल चुनो तो चुन लो रे |
दिन बीतेंगे जो बीत चुके ...................................||

तुम्हे बुलाती परम्पराएं
पदचिन्ह तुम्हारे उभरेंगे
बनजारों के साथ चलो तो केशरिया रंग कर लो रे |
दिन बीतेंगे जो बीत चुके ...................................||
स्व. श्री तन सिंह जी : २० मार्च १९६२

सांड तो लड अलग भये : बछडे भये उदास
पुनरागमन

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
आमीन said...
on 

मीत तुम्हारे थे लाखों पर
प्रीत नहीं निभ पायेगी
अब झोली हमारी भरने को कुछ फूल चुनो तो चुन लो रे |

Post a Comment

 

widget

Followers