किसने बहाना ढूंड के

किसने बहाना ढूंड के सोते हुए जगा दिया
हँसते फूलों से बाग़ में , काँटों में किसने रुला दिया

मीठी सदा बहार थी , कैसा था मेरा घौसला
आकाश में थे रास्ते , तिनको में भी था हौसला
पंछी की दुनियां लूट के ,दुनिया का पंछी बना दिया ||

जितने ही ऊँचे स्वप्न थे ,उतने ही हिम्मत पस्त थे
सपनो में रोती जहान थी , अपने तो मौला मस्त थे
गैरों का पानी आँख को दे , जालिम ये तूने क्या किया ||

पतंगा पूछता शमा से , ऐसे ही क्यों जला दिया
भोले भोले मेरे साथी ,झूंठा ही दोष लगा दिया
अपनी ही आग से जल रही थी , अपने को क्यों जला दिया ||

करते कई दया भी हम पे , कुछ हम पे मुस्करा रहे
हाथों ही यों बरबाद कर , कितने ये नादां बन रहे
हमको भी देखो लूटके ख़ुशी से ,उनको लुटेरा बना दिया ||
स्व.श्री तन सिंह जी : २३ मार्च १९६३

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
अजय कुमार झा said...
on 

बहुत सुंदर जी बहुत ही बढिया रचना ..लिखते रहें
अजय कुमार झा

Post a Comment

 

widget

Followers