रक्त तिलक करले

रक्त तिलक करले -रक्त तिलक करले ज्वालामुखी धधके
बोलो यह कुम कुम की आभा
या परिचित आने की शोभा
नवजीवन झलके नव जीवन झलके |

याद करो कुछ बिसरी बाते
याद करो वे घिरती रातें
एक बने मिलके -एक बने मिलके ||

यह तेरे स्वागत की बेला
मेरा उपहार नवेला
नेत्र नीर ढलके -नेत्र नीर ढलके ||

अब बोलो तुम क्या लाये हो
क्या लाये हो भेंट चढ़ाएँ
चामुंडा किलके - चामुंडा किलके ||

स्वागत है मेरे मन के मोती
स्वागत है रे जगमग ज्योति
कब खप्पर खल्के- कब खप्पर खल्के ||

देखो इस पीड़ित धरती को
व्यथा लिए अनुनय करती को
दावानल धधके - दावानल धधके ||

तेरा मिलन वियोग नहीं क्या
स्वर्ग नरक है और कहीं क्या
अंतर मन पुलके - अंतर मन पुलके ||

कुछ पाकर यों फूल गए क्यों
जो खोया है वो भूल गए क्यों
अंदाजे मन के -अंदाजे मन के ||

खचित भाल पर अमर निशानी
युग युग की पहचान पुरानी
बांधव भव भव के - बांधव भव भव के ||

स्व.श्री तन सिंह जी : ३१ अक्तूबर १९६२

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “रक्त तिलक करले”

Post a Comment

 

widget

Followers