प्रतिफल कहानी चल रही है

प्रतिफल कहानी चल रही है , चाहे प्यार हो परिहास हो |
मुझे जिन्दगी की प्यास हो ||

चाहे रूठ गया बसंत भी , चाहे आ रहा हो अंत ही
कैसे कह सकूँगा चाह कर , मेरी चाह है अनन्त सी
जब बोलता गुनाह हो , तो मौन में विश्वास हो ||

क्या सार है आदर दिया , या तोड़कर ही मिटा दिया
हर बार झूमेगी डालियाँ , और अर्चना की भी थालियाँ
बेकार चढ़ना शीश पर , जब लुटने का भी त्रास हो ||

रस रूप गुण के पारखी , कुछ शब्द के है सारथी
न थक रहे है बखान से , मै थक चूका हूँ थकान से
मै पुष्प हूँ मेरी व्यथा , कोई जान ले अवकाश हो ||

ऊँचा खिलूँ में व्योम में ,समिधा बनूँ मै होम में
आँचल कोई फैला हुआ , या ज्योतिचरण आता हुआ
आँचल में सिमटा प्यार हो , चरणों में पुण्य प्रकाश हो ||

26 फरवरी 1964

स्वर्ग में स्वागत -1

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
ताऊ रामपुरिया said...
on 

बहुत सुंदर.

रामराम.

Post a Comment

 

widget

Followers