आओ जरा से बैठकर

आओ जरा से बैठकर ,चेतना नई भरे |
सोचना शुरू करें ||

किस जगह से गिर के बंधू कहाँ रुक सकेंगे हम
बिछुडे हुओं का संगठन , क्या आज कर सकेंगे हम ?
है करना वो न कर सके तो जिन्दगी क्या करें || सोचना .........

ऊँचा करो यह शीश अपना , जो न झुक सका कभी
जो झुक गए है आज उनको, लाज आएगी कभी |
थातियों को बेचकर हम याचना कैसे करें || सोचना ......

क्या हुआ जो मेहनत का फल हमें मिला नहीं
जो मिल गए उससे चमन , तक़दीर का खिला नहीं
बीते हुए युगों की आज कीमत अदा करें | सोचना .......

आंसू बहा न बंधू मेरी , परम्परा शरमाएगी
कदम बढा धरा तेरे , बोझ से झुक जायेगी
पहचान तेरे रूप को कल्पना नई करें || सोचना ....

स्व. श्री तन सिंह जी : ११ सितम्बर १९५७

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
रंजन said...
on 

क्या हुआ जो मेहनत का फल हमें मिला नहीं
जो मिल गए उससे चमन , तक़दीर का खिला नहीं
बीते हुए युगों की आज कीमत अदा करें |..

सत विचार..

Post a Comment

 

widget

Followers