मग भूल गया है जो

मग भूल गया है जो उसका नहीं कोई रे
बेदर्द जमाना है ,कोई न किसी का रे

आँखों में अन्धियारी, मग ढूंढे नहीं मिलता
आँखे है रोशन जिससे, आँखों से नहीं दीखता

अंधे की लकडी है, मेरा कोई नहीं रे || मग---

पर ठहर नहीं सकता ,बढ़ने को जो आया
आँखों में आंसू तो क्या,दिल खुलकर मुस्काया

अंगारों से खेला था भय फूलों से कैसा रे || मग---

इच्छाएँ जला करती,अरमान उठा करते
तूफां के थपेडों से , मांझी न डरा करते

जो पथ का दर्शक था -पथ भूल गया रे || मग---

स्व.श्री तन सिंह जी
: २४ सितम्बर १९५२

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “मग भूल गया है जो”

Post a Comment

 

widget

Followers