अरमानो की दुनिया

अरमानो की दुनिया सदा जले ,यदि कभी बुझे तो आंसू से ना |

भूचाल उठे भृकुटी तनते दिग्पाल इशारों में आते थे |
बल न्याय से मस्तक ऊँचा था , अन्यायी से झुक जाऊं ना ||

संस्कृति के अंकुर खोज खोज मरुभूमि में बाग़ लगाया है |
तक़दीर का पाला चाहे पड़े , पर प्रेम की सरिता सूखे ना ||

जीवन के दिन में फूलों को चुग-चुग नैवेध चढाता हूँ |
मै मौत से क्षण भर रुक जाऊँ,पर गिरुं कभी ठोकर से ना ||

संकल्प का सागर संघ किश्ती खेवट मन कर्म की पतवारें |
तूफान तो मेरे साथी है मै रुकूँ विरोधी लहर से ना ||

मग मैंने चुना सोचा समझा पर निकला काँटों से भरा हुआ |
चलने की तमन्ना बनी रहे , पर गिरुं कभी दुर्बल हो ना ||
स्व.श्री तन सिंह : बाड़मेर १८ मार्च १९५१

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
Nirmla Kapila said...
on 

बहुत सुन्दर कवितायें हैMं तन सिह जी को नमन श्रद्धाँजली आभार्

Post a Comment

 

widget

Followers