मेरे सोते हुए जीवन में रणभेरी बजा देना

मेरे सोते हुए जीवन में रणभेरी बजा देना |
फिर चाहे तो अरमानो की होली भी जला देना ||

वन में फूल खिले खिल कर जगत में प्रेम बरसाते |
हंसते है हंसी में फिर हस्ती को मिटा जाते ||
अन्धेरे में पड़े इस ज्ञान से सजा मुझको सजा देना |
मेरे सोते हुए जीवन में रणभेरी बजा देना ||

घर में दीप जला जलकर जगत को दीप्त कर देता |
परवाना शमा पर चढ़ के निज को खाक कर देता ||
वह जलता वह मरता मुझे कुछ तो सिखा देना |
मेरे सोते हुए जीवन में रणभेरी बजा देना ||

अन्दर आग जली जल कर न पर्वत को तपाती है|
तभी झरने खलकते और हरियाली सुहाती है ||
भभकने की प्रतीक्षा में मुझे सहना सिखा देना |
मेरे सोते हुए जीवन में रणभेरी बजा देना ||
स्व. श्री तन सिंह जी : १७ सितम्बर १९५० बाड़मेर |

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “मेरे सोते हुए जीवन में रणभेरी बजा देना”

Post a Comment

 

widget

Followers