चालण रो वर दे माँ मार्ग कांटा सूं भरपूर

चालण रो वर दे माँ मार्ग कांटा सूं भरपूर ||

पग-पग कांटा जग में दिसै ,
कांटा में कई फूल निपजै |
कांटा री दुनियाँ में माता क्यूँ जाऊँ मै भूल || चालण......

हालण लाग्यो जळ थळ सारो ,
झोंका दे बायरियो प्यारो |
ऊँचा महल उबासी लेवे झुंपी झेरां पूर || चालण.....

आज सांच रो मारग दिसै ,
वीर सुरमा म्हनै उडीकै |
परभाते री नींदडली हमें मत कर तू मजबूर || चालण.....

एक जीव है अंग हजारों ,
छोट मोट है भैद कठे रो |
घर रै गोधम गजनी रै कांटे ,पीथल खोयो नूर || चालण.....

सतियाँ सत् कांटा बळ राख्यो ,
कांटा चल राणै प्रण राख्यो |
हूँ तो माता करणों चाऊ , कांटा रो मदचूर || चालण.....

सुख करतां दुःख आवै आण दे ,
जगहित शिव ने जहर पियणदे |
धर्म प्रीत रा गीत गावतां आवण दे तिरशूल || चालण.....
स्व. श्री तन सिंह जी : १७ मार्च १९५० बाड़मेर

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “चालण रो वर दे माँ मार्ग कांटा सूं भरपूर”

Post a Comment

 

widget

Followers