जगावें जग में अनुपम ज्योति

जगावें जग में अनुपम ज्योति कौम पर होना है कुर्बान |
.....................................धर्म पर होना है बलिदान ||
संघ है जीवन का सिद्धांत
कर्म में निहित पतन का अंत
कर्म पथ चले खून से लीप
दीप से चलें जलाते दीप
दीप में स्नेह ,स्नेह से ज्योति , ज्योति पर चढ़े पतंगे आन |
...................................................होना है बलिदान ||
दिलाती जौहर ज्वाला याद
अनेकों बलिदानों की साध
मिटे जब दिवानो के झुंड
धर्म पर चढ़े अनेको रुण्ड
बजे तलवार , बहे बस खून , इसी में क्षात्र धर्म की शान |
...............................................होना है बलिदान ||
ज्ञान का कर दूँ नव आलोक
शक्ति से नदियों को दूँ रोक
करूँ मै पर्वत के दो टूक
क्षात्र का मन्त्र सुनाऊं फूंक
बढे यह संघ , संघ में शक्ति , शक्ति में है सामर्थ्य महान |
...............................................होना है बलिदान ||
स्व. श्री तन सिंह जी २० मार्च १९४७ जसवंतपुरा में |



Reblog this post [with Zemanta]

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
नरेश सिह राठौङ said...
on 

संघ में शक्ति , शक्ति में है सामर्थ्य महान...बहुत सुन्दर बात है ।

Post a Comment

 

widget

Followers