क्षात्र धर्म के पुनरोदय से

क्षात्र धर्म के पुनरोदय से अग जग में उजियारा हो |
...............................................................ऐसा संघ हमारा हो |
उतर से जब देश धर्म पर काले बदल घिर आए
तैमूर लंग गौरी नादिर से अत्याचारी घुस आए
उन प्यासों के पीने के हित खून भरे खप्पर लाए
सोमनाथ पानीपत गूंजे जब हमने ललकारा हो |
..............................................................ऐसा संघ हमारा हो |
औरंग ने जसवंतसिंह को काबुल में था मरवाया
दुर्गा ने तीखे भालों से मुग़ल तख्त को थर्राया
मालदेव से मुंह की खाकर शेरशाह था घबराया
जब-जब कुचला गया धर्म तब हमने ही फुफकारा हो |
.................................................................... .ऐसा संघ हमारा हो |
कूटनीति से अकबर ने शेरों को भेड़े बनवाई
मेवाड़ सिंह के सिंहनाद से अरावली भी गुर्राई
केशरिया फहरा भूमि को लाल रंग से रंगवाई
हल्दी घाटी के शस्त्रों का फिर एक बार झंकारा हो |
...................................................................ऐसा संघ हमारा हो |
चित्तौड़ दुर्ग की बुझी राख में बीती एक कहानी है
जलते दीपक में जौहर की वीरों याद पुरानी है |
चूल्हों की अग्नि में देखो पद्मावती महारानी है
हृदय-हृदय में आग उठे फिर घर-घर में जयकारा हो |
..................................................................ऐसा संघ हमारा हो |
जब शक्ति थी जगह जगह तब शत्रु को ललकारा था
हाथों में तलवारे लेकर वक्ष फुला हुंकारा था
जननी के चरणों पर अपना सुख दुःख सारा वारा था
भूली संस्कृति की उर में बहती पावन धारा हो |
...............................................................ऐसा संघ हमारा हो |
संघ मन्त्र क्षत्रिय जाति की रग-रग में संचय करने
युवा हृदय की तड़पन ले हम आज चले जग जय करने
दावानल की अग्नि बढे जब सत्य न्याय का क्षय करने
उस दावा से धर्म बचाने आगे कदम हमारा हो |
..............................................................ऐसा संघ हमारा हो |
अपनी आत्म ज्योति की लौ से क्षात्र धर्म का दीप जले
पथ से विचलित राजपूत को अपना खोया मार्ग मिले
निष्ठ तपस्वी के समान हम संघ कार्य को किए चले
अपने नेता की आज्ञा पर मरना ध्येय हमारा हो |
..................................................................ऐसा संघ हमारा हो |

स्व.श्री तन सिंह जी द्वारा २० जनवरी १९४७ को जयपुर में लिखित


Reblog this post [with Zemanta]

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
AlbelaKhatri.com said...
on 

waah waah
dhanya kar diya !

Post a Comment

 

widget

Followers