जल जल कर उठने वालों को

जल जल कर उठने वालों को दो मंगल वरदान |
प्रभुजी दो मंगल वरदान ||

जागे कण कण मेरा सोया |
बीता गौरव प्यारा खोया ||
मैल पीढियों का है धोया , बस एक रहा अरमान |
प्रभुजी दो मंगल वरदान ||

पथ का पार किया अन्धेरा |
दुःख ने आज मगर है घेरा ||
कहाँ रैन है कहाँ बसेरा , पथ के है अनजान |
प्रभुजी दो मंगल वरदान ||

साथी हिलमिलकर आते है |
प्राणों में रंग भर जाते है ||
किन्तु कहीं पर गिर जाते है , उठने दो भगवान |
प्रभुजी दो मंगल वरदान ||

दीपक एक टिमक टीम जलता |
आज पतंगों का दिल जलता ||
जलकर ज्योति में ज्योति मिलाता , जलने में ही आन |
प्रभुजी दो मंगल वरदान ||
स्व.श्री तन सिंह जी : २२ सितम्बर १९४९ समदडी |

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “जल जल कर उठने वालों को”

Post a Comment

 

widget

Followers