बन्धनों को तोड़ करके

बन्धनों को तोड़ करके जा रहे किस और राही !

आज जग में छाया उजेला ,
नव प्रभात की है भव्य बेला,
रात का आलस्य लेकर सो रहे क्यों आज राही !

लक्ष्य तेरा भव्य सुन्दर,
पंथ भी सबसे सुगमतर ,
विध्न बाधा देखकर क्यों , भूलते हो स्वगुण राही !

जन्म ने बंधन बनाए ,
मृत्यु पर नव जन्म आए ,
है इसीलिए संघर्ष जीवन,शांत क्यों चुपचाप राही !

इधर वैभव नृत्य होते ,
उधर संस्कृति के दो टूक होते ,
तड़फतों का यह तमाशा ,देखकर क्यों मौन राही !
स्व.श्री तन सिंह जी : २७ अप्रैल १९४९ रामदेरिया

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
AlbelaKhatri.com said...
on 

bahut khoob !

Post a Comment

 

widget

Followers