अब क्यों खडा तू मौन है ओ कौम के जवान

अब क्यों खडा तू मौन है ओ कौम के जवान
तेरे मंत्रो से कब जगेंगे पत्थर में सोये प्राण ||

युग से प्रतीक्षा में है दीपक जले रहे
कितने पतंगे जलकर रोशन बने रहे
मेरी परम्परा में तुम भरते रहे हो जान ||

किस्मत की ठोकरों में क्या तू कभी बहा
पर्वत थे ऊँचे ऊँचे फिर भी नहीं झुका
ज्योति तेरे अतीत की झुकवा दो आसमान ||

ज़माने का है तकाजा , तब ही तो मांग तेरी
ये आरजू हमारी करले जो मर्जी तेरी
मजबूरियों ने भेजा बेबस है हम नादान ||

ये जवानी काम की क्या , ये मौन कब खुलेगा ?
ये मन्त्र भी चलेंगे क्या, पत्थर भी क्या हिलेगा ?
ये कीमते इंसानियत की इनको चूका इंसान ||
स्व. तन सिंह जी : १९ सितम्बर १९६०

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
Udan Tashtari said...
on 

आभार स्व. तन सिंह जी की रचना पढ़वाने का.

Post a Comment

 

widget

Followers