बे दर्द बन रे याद में अब जल ढलता है तो ढलने दे


                           हल्दी घाटी स्थित चेतक की समाधी

बे दर्द बन रे याद में अब जल ढलता है तो ढलने दे !
यहीं पास में भ्रातृ प्रेम की , त्रिवेणी बही थी बहने दे !
यही शक्ति सिंह आ के मिला ,
राम से ज्यों भरत मिला |
बिछुडे दिल यदि मिलते हों तो , पगले अब मिलने दे ||१|| जल....

यही हार कर थक कर खोया ,
मेवाड़ धरा का भाग्य है सोया
वसुंधरा का भाग्य हमीं से , आज जगे तो जागने दे ||२||जल...

इस घाटी में जूझ गए थे ,
इस घाटी में स्वर्ग गए थे |
आन के खातिर मरने वालों का , लगे तो मेला लगने दे ||३||जल...

यह तो केवल पशु नहीं था ,
स्वर्ग का शापित देव पुरुष था |
यह मूक नहीं था इसकी भाषा ,कोई सुनता है तो सुनने दे ||४||जल...

स्वामी भक्ति की यही सजा है ,
इस मरने का और मजा है |
तेरे दिल में ऐसा कोई अरमान उठे तो उठने दे ||५|| जल...

मेरे क्रूर विधाता दे दो ,
ऐसा बलिदान उधारा दे दो |
इस दुखिया प्राणों से कोई ,इतिहास बने तो बनने दे ||६||

स्व. श्री तन सिंह जी : २५ मई १९५९, हल्दी घाटी से
;

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
Apoorv said...
on 

स्वामी भक्ति की यही सजा है ,
इस मरने का और मजा है |
तेरे दिल में ऐसा कोई अरमान उठे तो उठने दे |

बड़े दिनों बाद ऐसी देशभक्ति वाली रचना पढ़ने को मिली..शुभकामनाएं.

Post a Comment

 

widget

Followers