दे दो ! दे दो !

दे दो ! दे दो !
मन भटक रहा है द्वार द्वार |
मेरी यह नन्ही झोली तू दातार || मन......

घर का सारा धंधा छोड़ ,
सब दुनिया से नाता तोडा | मांग रहा निज कर पसार || मन ....

देव योग से बना भिखारी ,
व्यथा सामने रखदी सारी | ले ज्योति ताज अंधकार || मन....

ऐसा भिक्षुक नहीं मिलेगा ,
ऐसी अनुनय कोंन करेगा | छिपा नहीं है तू दे बलिहार || मन...

तू देगा तुझको देना है ,
हक़ मेरा बस हाँ लेना है | ना दे हाँ कर मन न हार || मन ...

दे दो ! दे दो ! अब तो तो दे दो !!
जो कुछ देना है सो दे दो | कदम बढा ताज अश्रु धार || मन...
स्व. श्री तन सिंह जी : १५ फरवरी १९५९
;;

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

2 comments to “दे दो ! दे दो !”
संगीता पुरी said...
on 

सुंदर रचना !!

रंजना said...
on 

वाह !! बहुत ही सुन्दर भावप्रवण गीत...

Post a Comment

 

widget

Followers