साथी तू सोच जरा

मेरे साथी तू सोच जरा , मत उपहास करा |
चढा कसौटी पर चढ़ रहना उतरे तो उतर खरा ||

पथ भटकने आयेंगे ,मीत बने दे सीख |
कातिल है ये तेरे सुख के जखम करे क्या ठीक ||

कठिन क्षणों में साथ न छोडे तेरा एक विवेक |
तो चिंता नहीं करें किनारा , बनकर मित्र अनेक ||

एक अकेला होकर भी तू क्यों डरता है प्राण |
चिंगारी छोटी सी करती विप्लव का अंजाम ||

अग्नि परीक्षा से जब होगा जलकर के राख |
कई चढायेंगे मस्तक पर होगा दामन पाक ||

नमो साधना धन्य है निष्ठां द्रढ़ता तुझे प्रणाम |
पीडा को पीले तो नित ले , उठकर तेरा नाम ||

स्व.श्री तन सिंह जी :२१ अप्रेल १९५८

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “साथी तू सोच जरा”

Post a Comment

 

widget

Followers