बिछुडे हुए बुलाकर

बिछुडे हुए बुलाकर , मेले लगा रहे है |
अपने करों से अपनी तक़दीर बना रहे है |

अंत:करण में गहरे गोते लगा रहे है |
सपने हमारे जग को समझाते जा रहे है || अपने ....

हर बार जल जले थे इतिहास गा रहे है |
हर बार कारवां भी बनते जा रहे है || अपने .......

माने तो मर्जी तेरी , हम गैर तो नहीं है |
अपनी ख़ुशी लुटाकर तुमको बसा रहे है || अपने ...

जंगल की राख छानी,राते जगा रहे है |
हम कौम के है बन्दे , रस्ते बना रहे है || अपने ....

भूखे है स्नेह के हम , किन्तु कभी न मांगे |
प्याले तेरी नफरत के पीते ही जा रहें है || अपने....

स्व.श्री तन सिंह जी : १६ जनवरी १९६१

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “बिछुडे हुए बुलाकर”

Post a Comment

 

widget

Followers