बहका दिया किसी ने

बहका दिया किसी ने पिला
कोई जाम मुझे अरमानों का ||

राह के काँटो में उलझ गया मैं तो
आँख लगी देखा पिछड़ गया मैं तो
किसने बताया पंथ मुझे युग युग के परवानों का ||

देखे मैंने सांचे रे जिन्दगी में ऐसे
आंसुओं को पूछा तो मुस्कराये कैसे
जितना भुलाया याद रहा ,कर्जा इन इंसानों का ||

कोई चाहे माने कि बहका दिया है
जान बूझकर मैंने ये जहर पिया है
मन प्राणों को चूम रहा अमृत है अहसानों का ||

किसी ने ये सोचा उबर गया हूँ मैं
मगर ऐसा डूबा कि गल गया हूँ मैं
मिट जाए मेरा नाम भले , रह जाए यजमानों का ||
१२ मई १९६६



आईये हिंदी चिट्ठों पर पाठक बढ़ाएं |
राष्ट्रगौरव महाराणा प्रतापसिंह जयंती का प्रकट निमंत्रण
रेलवे टिकट का उपयोग पशुओ के लिए
ताऊ पहेली - 78
अदरक मानव जाती के लिए वरदान है |

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

3 comments to “बहका दिया किसी ने”
आचार्य जी said...
on 

आईये जानें .... क्या हम मन के गुलाम हैं!

Jandunia said...
on 

nice

दिलीप said...
on 

bahut khoob

Post a Comment

 

widget

Followers