बनी ना बिगड़ेगी रे

बनी ना बिगड़ेगी रे , कहानी रे मनवा
नसीबों की मारी रे

खिला दिए है फूलों को कांटो में भी हमने
युगों से भरी है पहली , धरा ने किलकारी रे ||
नसीबों की मारी रे ||

पीड़ा लेकर खुशियाँ देना कर्जा है जो उसका
कौम के चरणों में रहना सदा ही बलिहारी रे ||
नसीबों की मारी रे ||

बही अकेली की जग में पसीने की धारा जो
वो ही तो गंगा है जिसमे तेरी दुनिया सारी रे ||
नसीबों की मारी रे ||

स्वाति बिना मन का पंछी पीता नहीं पानी रे
प्यास की परीक्षा पहले फिर प्यासे की बारी रे ||
नसीबों की मारी रे ||

धोखा खावो हँसते जाना हमको कैसी चिंता रे
परमेश्वर करता है तेरी बन्दे रखवारी रे ||
सदा ही संवारी रे ||
18 मार्च 1966

एक राजा का साधारण औरत द्वारा मार्गदर्शन
आदरणीय श्री भैरों सिंह जी को अश्रुपूरित श्रधांजलि


इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

0 comments to “बनी ना बिगड़ेगी रे”

Post a Comment

 

widget

Followers