मुझे ना तुमसे गिला है कोई

मुझे ना तुमसे गिला है कोई
रहो हमारे ,चले भी जाओ,चले भी जाओ |

तुमने जो किया वो थोडा भी नहीं था |
जितना चुकाया वो कम भी नहीं था ||
जमाने आये हिसाब करने ,
बाकी बचा हो तो,वो ले भी जाओ ,ले भी जाओ ||

मैंने दिया वो स्वभाव मेरा |
कर्तव्य मेरा अधिकार तेरा ||
हंसके मिले थे हँसते भी रहना ,
ये ही दुआएं लेते भी जाओ ,लेते भी जाओ |

बातें वे भूली तो गम भी नहीं है |
रातें वे बीती तो चिंता नहीं है ||
प्याले पियेंगे जो हिस्से में आए
बोझा हो देना तो ,देते भी जाओ ,देते भी जाओ ||

अकिंचन नहीं हम उपेक्षित रहे हो |
मगर तुम हमारे जो साथी रहे हो ||
हम जैसा कोई न विश्वास काबिल ,
कर सको ये विश्वास ,करते भी जाओ ,करते भी जाओ ||
4 सितम्बर 1966


इंकलाब री आंधी(राजस्थानी कवि रेवतदान की एक शानदार रचना) |
वीर श्रेष्ठ रघुनाथ सिंह मेडतिया , मारोठ-1

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
निर्मला कपिला said...
on 

गिले शिकवों और विरह का संताप अच्छे शब्दों से बाँधा है बधाई

Post a Comment

 

widget

Followers