गायें घूम-घूम -घूम कितना पाया क्या खोया

गायें घूम-घूम -घूम कितना पाया क्या खोया
गायें घूम-घूम -घूम कितना पाया क्या खोया
गायें घूम.............................................

जब से हो गया बिंदु सिन्धु का नदी कूप ना भाये |
गायें घूम ...................................................

पंडित जन पौथी में उलझे सुलझन खडी सिरहाने |
माया के फंदों में भटके लटके कई सयाने ||
सब कुछ खोने पर बन्दे ! हम अमर प्रीति फल पायें ||
गायें घूम........................................................

दूर खड़ा कोई कहता है, यह घाटे का सौदा |
पहचानेगा कौन भला यह होनहार का पौधा ||
जीवट का कोई दांव लगाने एक बार तो आये ||
गायें घूम ..................................................

अन्तर्यामी के हम हो गए जाने या अनजाने |
मानस पट पर चित्र बने है रंग भरे मन माने ||
करें प्रार्थना यही चितेरा हर जीवन में आये ||
गायें घूम............................................

सभी कहेंगे अर्थ सरल पर कोई कहे समझाओ |
इस गायन का सार हमें भी थोडा तो बतलाओ ||
गूंगा क्या समझाए वह तो केवल गुड़ को खाए ||
गायें घूम-घूम -घूम कितना पाया क्या खोया ||
29 नवम्बर 1966


याद आते है दूरदर्शन के वे दिन |

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

1
Udan Tashtari said...
on 

बहुत सुन्दर!

Post a Comment

 

widget

Followers