सत्य मेव जयते

न्यायालय में न्याय अपनी कुर्सी पर बैठकर निर्णय करने जा रहा था | दर्शकों से अदालत खचाखच भरी हुई थी | आज एक अनूठे मुकदमे की सुनवाई होने वाली थी |
वादी के कटघरे में विश्वासपूर्ण मुद्रा लिए सत्य प्रविष्ट होकर बोला -- " न्यायमूर्ते ! मैंने प्रतिवादी को अपना समस्त राज्य दान में दे दिया है , परन्तु वह स्वीकार नहीं करना चाहता | मेरे राज्य का उपयोग करने के लिए उसे बाध्य किया जाय | "
लोगो की निगाहे प्रतिवादी के कटघरे की और घूम गई | भगवे वस्त्रों में ब्रहस्पति की भांति सुशोभित होते हुए त्याग ने प्रतिवाद किया -- " परन्तु महाराज ! वादी ने वह दान अपनी स्वप्नावस्था में किया है , जिसे कैसे स्वीकार किया जा सकता है ?"
सत्य- - "भगवन ! मै सदैव देता आया हूँ, लेता कुछ नहीं | यह मेरी सांस्कृतिक परम्परा है | प्रतिवादी स्वप्न के बहाने दान करना चाहता है | ऐसी फिसलनो और बहनों में मै बह सकता हूँ ऐसी मान्यता प्रतिवादी के मन में है | यह मेरा मूल्यांकन किया जा रहा है | इसे मै अपना अपमान मानता हूँ | मैंने वचन दे दिया है,फिर वह चाहे स्वप्न में ही क्यों न हो | मेरी परम्परा ने अपने ही नहीं , सृष्टि और ईश्वर के स्वप्न सच्चे किये है | मेरी निगाहों में स्वप्न सत्य है किन्तु सत्य स्वप्न नहीं | त्याग ने मेरे यहाँ बड़े सोभाग्य से अतिथि बनना स्वीकार किया है फिर चाहे उसने बेहोशी में ही मेरा द्वार क्यों न खटखटाया हो | मेरे द्वार पर त्याग अभ्यागत बनकर आया है , उसे निराश लौटने पर इतिहास मुझ पर लज्जित होगा | त्याग के आतिथ्य-सत्कार का सर्वप्रथम मेरा और एक मात्र मेरा अधिकार है |
बीच में ही सरकारी वकील बोल उठा - " यह अहंकार है , वादी से उसकी कीमत मांगी जाय |
प्रतिवादी ने हाँ में हाँ मिलाते कहा -- " हाँ महाराज ! यदि वादी को इतना अहंकार है तो अपने दान की मै दक्षिणा चाहता हूँ |"
विजयभरी मुस्कान में सत्य ने नम्रतापूर्वक कहा- " स्वीकार है | दक्षिणा में आपको दस लक्ष स्वर्ण मुद्राए ....|"
प्रतिवादी -- " परन्तु मुद्राएँ तो राज्य की जिसे वादी ने पहले ही मुझे दे दिया है |"
वादी -- " तो यह लो ! मै डोम के घर बिकता हूँ ,मेरी महारानी ब्रह्मण के यहाँ सेवावृति करेगी , मेरा राजकुमार पंचतत्व को प्राप्त हो गया है | यह देखो , मै कफ़न का आधा हिस्सा और श्मशान शुल्क का एक टका मांग रहा हूँ | मै अपना हिस्सा लेकर ही रहूँगा अन्यथा रोहताश का दाह संस्कार नहीं होने दूंगा ! हाँ! हाँ ! हाँ ! मै उसकी साडी का भी आधा हिस्सा ले रहा हूँ क्योकि यही तो उसका कफ़न है | कर्तव्य के समक्ष स्त्री का स्नेह और पुत्र की ममता मुझे नहीं डिगा सकती | अभी तो क्या हुआ, श्मशान का टका बाकी है - क्या अब भी तुम्हारी दक्षिणा नहीं चुकी |"
प्रतिवादी चुप हो गया | उसने आँखे नीचे की और झुका ली | सरकारी वकील बगलें झाँकने लगा और न्याय ने उठते हुए फैसला दिया - " सत्यवादी राजा हरीशचंद्र की जय हो |"
अदालत उठ गयी | दर्शक कानाफूसी करते हुए जा रहे कि वह एक क्षत्रिय था |
चित्रपट चल रहा था और द्रश्य बदलते जा रहे थे |

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


Comments :

4 comments to “सत्य मेव जयते”
AlbelaKhatri.com said...
on 

atyant sundar !

संध्या आर्य said...
on 

अच्छी लघुकथा है. बडी बात कहती है मगर

बसंत आर्य said...
on 

अच्छी लघुकथा है . बडी बात कही आपने.बधाई

बसंत आर्य said...
on 

अच्छे लघुकथा है बडी बात कहती हुई

Post a Comment

 

widget

Followers